जीवनमें , धर्ममें , संसारमें , व्यापारमें हर जगह पाजिटिविटी अर्थात सकारात्मक ऊर्जाका बहुत महत्व है

प. पु. तपागच्छाधिपति आ.  श्री वि. प्रेमसूरीश्वरजी म. सा. के शताब्दी वर्ष मुंबई नगरी के १०० संघो की विचरण यात्रा अंतर्गत  प. पु.आ. श्री वि. कुलचंद्र सूरीश्वरजी (के. सी. ) म. सा.  आदिथाणा आज रोज जवेर रोड , मुलुंड मध्ये वासुपूज्य जिनालय पधारे थे जहाँ पूज्यश्री का सुन्दर प्रवचन आयोजित हुआ था 

प्रवचन के दरमियान पूज्यश्री ने बताया की जीवनमें , धर्ममें  , संसारमें  , व्यापारमें हर जगह पाजिटिविटी अर्थात सकारात्मक ऊर्जाका बहुत महत्व है 

आज के समय की सबसे बड़ी समस्या यह है की आज का मनुष्य अत्यंत नकारात्मक बन गया है  और उन्हें  नेगेटिविटी पहले दिखती है , पूज्यश्री ने  बताया की पहले तो हमे नकारात्मक विचारों से बहार निकलना होगा आज का सायन्स और अनेको रिसर्च भी कहते है की जैसे विचार होंगे वैसी ऊर्जा का निर्माण  आप के आजु बाजु बनता जायेगा और ठीक वैसे ही वातावरण के अनुसार जीवन आगे बढ़ेगा .  सफल और खुशहाल जीवन व्यतीत करने के लिए हमेशा पोसिटिव ऊर्जा को अपने में समायें 

पूज्यश्री आज सवेरे ७ . ३०  से  ८ . ३०  दरमियान श्री वर्धमाननगर जैन संघ मध्ये और  ८. ३०  से  ९. ३०  दरमियान विकास पैराडाइस मध्ये प्रवचन फरमाएंगे 

ता.  १४  - १५ फेब्रुअरी पूज्यश्री टेभीनाका जिनालयकी वरसगांध अवसर निश्रा प्रदान करने थाणा मध्ये पधारेंगे